IGCSE Hindi (Second Language) Paper-2: Specimen Questions with Answers 24 - 29 of 100

Passage

IGCSE Hindi paper 2 -Audio 5

Audio file 5. for IGCSE Hindi

Question number: 24 (4 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
Short Answer Question▾

Write in Short

व्यापारी किस बात से दुखी हो गया व उसके बाद व्यापारी के मन में क्या आ गया था?

Explanation

सातवें घड़े को खोलने पर उसने पाया कि वह आधा ही भरा हुआ था इसलिए व्यापारी दुखी हो गया एवं उसके बाद व्यापारी के मन में ओर अधिक लालच आ गया था।

Question number: 25 (5 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
Short Answer Question▾

Write in Short

व्यापारी मन बदलाव के लिए कहां चला गया था व उसे सुस्ताने के लिए कौनसी जगह मिली?

Explanation

व्यापारी मन बदलाव के लिए पहाड़ पर वादियों और जंगलों का नजारा लेने चला गया एवं उसे सुस्ताने के लिए एक गुफा मिली।

Passage

IGCSE Hindi paper 2- Audio 18

Audio file 18 for IGCSE Hindi.

Question number: 26 (1 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
Short Answer Question▾

Write in Short

शिष्यों ने महात्मा के प्रश्न का क्या उत्तर दिया?

Explanation

शिष्यों ने बताया कि यह किसी लखपति सेठ की हवेली है अत: उसे जब व्यापार में एक लाख रूपये का लाभ होता है तो वह एक झंडा लगा देता हैं।

Question number: 27 (2 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
Short Answer Question▾

Write in Short

प्रस्तुत कहानी का र्शीषक क्या हैं?

Explanation

प्रस्तुत कहानी का र्शीषक परलोक हैं।

Question number: 28 (3 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
One Liner Question▾

Write in Brief

महात्मा ने शिष्यों से झंडों के विषय में क्या पूंछा?

Explanation

महात्मा ने शिष्यों से पूछा कि हवेली में लगे सात झंडों का क्या आशय हैं?

Question number: 29 (4 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
Short Answer Question▾

Write in Short

महात्मा ने उस सेठ के पास क्या रखने को कहा एवं महात्मा के मुह से क्या सुनकर सेठ के ज्ञान चक्षु खुल कर सेठ का कौनसा नशा काफूर हो गया?

Explanation

महात्मा ने उस सेठ के पास सोने की एक सुई रखने को कहा एवं महात्मा बोले की जब आप झंडे लगाकर सात लाख रुपए की संपत्ति को परलोक में साथ ले जाने का दावा कर रहे हो तो मेंरी सूई में भला कितना वजन है। यह सुनते ही सेठ के ज्ञान चक्षु खुल कर सेठ का अहंकार का नशा काफूर हो गया। अर्थात सेठ का अंहकार का नशा उतर गया।