IGCSE Hindi (Second Language) Paper-2: Specimen Questions with Answers 76 - 82 of 100

Passage

IGCSE Hindi paper 2- Audio 6

Audio file 6 for IGCSE Hindi.

Question number: 76 (1 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
One Liner Question▾

Write in Brief

प्रस्तुत निबंध के अनुसार पुरूषों को क्या करना चाहिए?

Explanation

प्रस्तुत निबंध के अनुसार पुरूषों को महिलाओं के हर कार्य में सहयोग करना चाहिए।

Question number: 77 (2 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
One Liner Question▾

Write in Brief

आधुनिकता के साथ-साथ क्या बढ़ी है?

Explanation

आधुनिकता के साथ-साथ महत्वाकांक्षाएँ बढ़ी है।

Question number: 78 (3 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
One Liner Question▾

Write in Brief

इन चुनौतियों का सामना करने के लिए किन की आवश्कता थीं?

Explanation

इन चुनौतियों का सामना करने के लिए बहुत हिम्मत लगन, धैर्य, संयम और आत्मविश्वास की आवश्यकता थी।

Question number: 79 (4 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
One Liner Question▾

Write in Brief

घर में सुविधाएँ बढ़ने से किसके लिए चुनौती से कम नहीं थीं?

Explanation

घर में सुविधाएँ बढ़ने से नारी व परिवार के लिए यह चुनौतियों से कम नहीं थी।

Question number: 80 (5 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
One Liner Question▾

Write in Brief

प्रस्तुत निबंध के अनुसार परिवार को कौन चलाते आए हैं?

Explanation

प्रस्तुत कहानी के अनुसार नर और नारी दोनों मिलकर परिवार को चलाते आए हैं।

Passage

IGCSE Hindi paper 2- Audio 2

Audio file for IGCSE Hindi

Question number: 81 (1 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
Short Answer Question▾

Write in Short

दमन की बात सुनकर गुरु जी ने क्या कहा?

Explanation

दमन की बात सुनकर गुरुजी ने कहा कि बेटा, दो नावों की सवारी करने वाला व्यक्ति कभी भी सफल नहीं हो पाता हैं यदि तुम धनुर्विद्या में पारंगत होना चाहते हो तो दूसरे गुरु के पास जाने की अपेक्षा स्वयं इसका अभ्यास करों और अपने लक्ष्य तक पहुंचों।

Question number: 82 (2 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
Short Answer Question▾

Write in Short

दमन सभी छात्रों से प्रतिस्पर्धा क्यों करना चाहता था?

Explanation

दमन सभी छात्रों से प्रतिस्पर्धा इसलिए करना चाहता था क्योंकि उसे ऐसा लगता था कि उसे अगर अन्य छात्रों से आगे निकलना है तो धनुर्विद्या को एक और गुरु से सिखना चाहिए।