IGCSE Hindi (Second Language) Paper-2: Specimen Questions with Answers 69 - 75 of 100

Passage

IGCSE Hindi paper 2- Audio 12

Audio file 12 for IGCSE Hindi.

Question number: 69 (4 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
One Liner Question▾

Write in Brief

प्रस्तुत कविता के अनुसार क्या खोकर हाथ मलना हैं?

Explanation

प्रस्तुत कविता के अनुसार अवसर खोकर हाथ मलना हैं।

Question number: 70 (5 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
One Liner Question▾

Write in Brief

कवि सब लोगों को किसका प्रतीक बनने को कह रहा हैं?

Explanation

कवि सब लोगों को विश्व-प्रगति का प्रतीक बनने को कह रहा हैं।

Passage

IGCSE Hindi paper 2- Audio 3

Audio file 3 for IGCSE Hindi

Question number: 71 (1 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
One Liner Question▾

Write in Brief

राजा व किसान ने भोजन में क्या पकाकर भरपेट खाया था?

Explanation

राजा व किसान ने भोजन में चावल पकाकर भरपेट खाया था।

Question number: 72 (2 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
One Liner Question▾

Write in Brief

प्रस्तुत लोककथा का शीर्षक क्या है?

Explanation

प्रस्तुत लोककथा का शीर्षक कर्म और जीवन हैं।

Question number: 73 (3 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
One Liner Question▾

Write in Brief

महल से निकल जाने के बाद रास्ते में राजा को कौन मिला था?

Explanation

महल से निकल जाने के बाद रास्ते में राजा को किसान मिला था।

Question number: 74 (4 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
Essay Question▾

Describe in Detail

भरपेट भोजन करने के प्रश्चात राजा के सपने में दिव्य पुरुष ने खड़े होकर क्या कहा व इससे राजा को कौनसा रास्ता मिल गया?

Explanation

राजा के सपने में दिव्य पुरुष ने खड़े होकर कहा कि ‘मैं कर्म हूं और मेरा आश्रय पाए बगैर किसी को शांति नहीं मिलती है। तुम्हे सब कुछ बिना कर्म के मिल गया है, इसलिए तुम्हें जीवन से विरक्त हो रहे हो। तुम कर्म करो। कर्म करने का एक अलग ही सुख होता है। इससे तुम्हारे भीतर जीवन के प्रति लगाव पैदा होगा’ इससे राजा को जीवन जीने का रास्ता मिल गया।

Question number: 75 (5 of 5 Based on Passage) Show Passage

Edit
One Liner Question▾

Write in Brief

राजा राजकाज से क्यों मुक्ति (विरक्त) होना चाहते थें?

Explanation

राजा के मन में स्वयं का जीवन जीने के प्रति लगाव खत्म हो गया था।